महान विकेटकीपर-बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट ने हाल ही में खुलासा किया कि भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह ने उन्हें करियर के दौरान बहुत ही ज्यादा परेशान किया. एडम गिलक्रिस्ट ने हरभजन सिंह को कठिनतम गेंदबाज करार देते हुए कहा कि भारत का यह ऑफ स्पिनर और श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन उनके अंतरराष्ट्रीय करियर में दो सबसे कठिन गेंदबाज रहे.


हरभजन ने 2001 के दौरे पर की थी जबरदस्त गेंदबाजी 

एडम गिलक्रिस्ट ने अपने करियर के कुछ यादगार पलों के बारे में बात करते हुए 2001 के भारत दौरे का जिक्र किया, जब हरभजन ने बहुत ही शानदार गेंदबाजी की थी. एडम गिलक्रिस्ट ने कहा- हरभजन मेरे पूरे करियर में सबसे कठिन विरोधी रहे. मुरली और हरभजन दो ऐसे गेंदबाज रहे जिनका सामना करने में मुझे सबसे ज्यादा परेशानी हुई.


2001 में भारत ने ऑस्ट्रेलिया दौरा किया था और हमने पहला टेस्ट मैच जीत लिया. लेकिन उसके बाद हरभजन सिंह की शानदार गेंदबाजी की बदौलत भारत ने अंतिम दो टेस्ट जीत लिए. गिलक्रिस्ट ने कहा- मुझे लगा कि बहुत आसान है. लेकिन मैं गलत था. हमने पहला मैच तो जीत लिया. लेकिन अगले ही टेस्ट मैच में हरभजन सिंह ने हमारे पैरों तले से जमीन खिसका दी. हरभजन ने 3 मैचों में 32 विकेट लिए.

गिलक्रिस्ट का बेमिसाल करियर 


बता दें कि एडम गिलक्रिस्ट ने अपने करियर में बहुत ही शानदार प्रदर्शन किया.. उन्होंने 96 टेस्ट मैचों में 5570 रन बनाए जिसमें 29 शतक और 26 अर्धशतक भी शामिल है. इसके अलावा उन्होंने 287 वनडे मैचों में 9619 रन बनाए. उन्होंने 16 शतक और 55 अर्धशतक भी लगाए.