युवा विकेटकीपर-बल्लेबाज ऋषभ पंत की खराब फॉर्म उनका पीछा ही नहीं छोड़ रही है. बांग्लादेश के विरुद्ध पहले T-20 मैच के दौरान ऋषभ पंत ना तो बल्ले से कमाल कर पाए और ना ही विकेट के पीछे खड़े रहते हुए अच्छा प्रदर्शन कर पाए. ऋषभ पंत को लगातार टीम में मौके दिए जा रहे हैं. लेकिन बार-बार वह इन मौकों का फायदा नहीं उठा पा रहे.


ऋषभ पंत को पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के विकल्प के रूप में देखा जा रहा है. धोनी से उनकी तुलना होती रहती है. लेकिन हाल ही में पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर एडम गिलक्रिस्ट ने ऋषभ पंत को यह सलाह दी है कि वह महेंद्र सिंह धोनी बनने की कोशिश ना करें. बल्कि अपना खेल खेलें. जब से ऋषभ पंत धोनी की जगह भारतीय टीम में आए हैं तो सबकी नजरें उन पर ही टिकी हुई है. ऋषभ पंत की तुलना धोनी से बहुत ज्यादा होती है.


पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर एडम गिलक्रिस्ट ने कहा- मैं तुलना में ज्यादा विश्वास नहीं करता, यह मैं पहले ही कह चुका हूं. मुझे नहीं लगता कि भारतीय प्रशंसकों को धोनी की तुलना पंत के साथ करनी चाहिए. धोनी ने अपने प्रदर्शन से उच्च स्तर का मानक तय किया है. एक दिन शायद कोई इसकी बराबरी कर ले. लेकिन ऐसा शायद ही मुमकिन होगा.


एडम गिलक्रिस्ट ने कहा कि ऋषभ पंत बहुत ही प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं. उनके ऊपर इतना ज्यादा दबाव नहीं बनाना चाहिए. उनसे धोनी की तरह प्रदर्शन की उम्मीद करना गलत है. मैं बस ऋषभ पंत को यही सलाह देना चाहूंगा कि धोनी से आप सीख सकते हैं. लेकिन धोनी जैसा बनने की कोशिश बिल्कुल भी ना करें. आप यह कोशिश करिए कि जितना हो सकता है मैं उतना सर्वश्रेष्ठ बनूं. बता दें कि खराब प्रदर्शन की वजह से ही ऋषभ पंत को दक्षिण अफ्रीका के विरुद्ध टेस्ट सीरीज में प्लेइंग इलेवन से बाहर रखा गया था.