3 नवंबर को भारत और बांग्लादेश के बीच पहला t20 मैच दिल्ली के अरुण जेटली स्टेडियम में खेला गया। T20 क्रिकेट के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ जब भारतीय टीम को बांग्लादेश से हार का सामना करना पड़ा। बांग्लादेश ने T20 सीरीज के पहले मुकाबले में भारत को 7 विकेट से हरा दिया। इससे पहले भारत और बांग्लादेश के बीच 8 T20 मैच खेले गए और सभी 8 टी-20 मैचों में भारतीय टीम ने जीत दर्ज की थी। लेकिन इस बार इतिहास बदल गया और बांग्लादेश ने भारतीय टीम को शिकस्त दी।


पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम ने निर्धारित 20 ओवरों में 148 रन बनाए। शिखर धवन ने भारत की तरफ से सर्वाधिक 41 रनों की पारी खेली। उन्होंने इस दौरान 42 गेंदों का सामना किया। विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत मैच में 26 गेंदों में 27 रन बनाकर आउट हो गए। इसके अलावा वाशिंगटन सुंदर ने 5 गेंदों में नाबाद 14 और कुणाल पांड्या ने 8 गेंदों में नाबाद 15 रन बनाए। आखिरी 2 ओवर में भारतीय टीम ने 30 रन एकत्रित किए।


लक्ष्य का पीछा करने उतरी बांग्लादेश की टीम ने 19.3 ओवरों में 3 विकेट के नुकसान पर 154 रन बनाए और भारत को उसी के घर में शिकस्त दी। बांग्लादेश की तरफ से मुशफिकुर रहीम ने 43 गेंदों में नाबाद 60 रन बनाए। इसके अलावा सौम्या सरकार ने 35 गेंदों में 39 रनों की पारी खेली। बांग्लादेश के कप्तान महमूदुल्लाह ने जीत का छक्का लगाया।

चहल ने खुद को इस मैच में फिर से साबित किया। उन्‍होंने 4 ओवर डाले और 24 रन देकर 1 विकेट लिए। भारतीय टीम की हार का कारण खराब बल्लेबाजी और पंत का गलत निर्णय रहा। ऋषभ पंत ने डीआरएस ले लिया जो कि भारत के लिए खराब रहा। अगर भारत के पास डीआरएस होता तो शायद भारतीय टीम यह मैच जीत सकती थी।