अगले आईपीएल सीजन में दिग्गज स्पिनर गेंदबाज रविचंद्रन अश्विन किंग्स इलेवन पंजाब की तरफ से नहीं, बल्कि दिल्ली कैपिटल्स की तरफ से खेलते हुए नजर आएंगे. पंजाब और दिल्ली के बीच रविचंद्रन अश्विन को लेकर ट्रेड पूरा हो चुका है. अश्विन लगभग 7.6 करोड़ मिलेंगे जो 2018 में उनकी नीलामी की कीमत थी. अश्विन के बदले दिल्ली कैपिटल्स ने पंजाब को कर्नाटक के स्पिनर जगदीश सुचित को दे दिया है. सुचित को 20 लाख के बेस प्राइस में दिल्ली में शामिल किया गया था. सुचित के साथ ही दिल्ली ने पंजाब को डेढ़ करोड़ रुपए भी दिए हैं.


दिल्ली अश्विन को काफी समय से अपने साथ जोड़ना चाहती थी. लेकिन पंजाब को अनिल कुंबले के रूप में नए कोच मिले, जिसके बाद यह नहीं हो पाया था. कुंबले अश्विन को टीम में रखना चाहते थे. लेकिन बतौर कप्तान अश्विन पिछले दो सीजनों में पंजाब के लिए कुछ खास नहीं कर पाए तो वह खुद ही दिल्ली के साथ जुड़ना चाहते थे. पंजाब की टीम सुचित की जगह ट्रेंट बोल्ट के साथ अश्विन की अदला-बदली करना चाहती थी. लेकिन दिल्ली की टीम इसके लिए तैयार नहीं थी.

मजबूत हुई दिल्ली कैपिटल्स की टीम 


दिल्ली कैपिटल्स की टीम में अश्विन के आने के बाद गेंदबाजी विभाग काफी मजबूत हो गया है. दिल्ली के पास राहुल तेवतिया, अमित मिश्रा, संदीप लामिछाने, जलज सक्सेना, अक्षर पटेल जैसे 6 स्पिनर गेंदबाज हो गए हैं, आईपीएल ट्रांसफर विंडो 14 नवंबर को खत्म हो जाएगा जिसके बाद 19 दिसंबर को आईपीएल के लिए नीलामी प्रक्रिया होगी. रविचंद्रन अश्विन बहुत ही बेहतरीन गेंदबाज हैं और उन्होंने साबित कर दिया कि वह पावरप्ले में भी गेंदबाजी कर सकते हैं और मध्यक्रम में भी धमाल मचा सकते हैं. डेथ ओवरों में भी वह बल्लेबाजों को परेशान कर सकते हैं.