वेस्टइंडीज टीम के ऑलराउंडर खिलाड़ी कीरेन पोलार्ड बहुत ही खुश मिजाज है. लेकिन कई बार उनका अलग ही अंदाज देखने को मिलता है. पोलार्ड की कप्तानी में वेस्टइंडीज की टीम ने 5 साल बाद वनडे सीरीज जीती है. अफगानिस्तान के विरुद्ध तीन मैचों की वनडे सीरीज के तीसरे मैच में पोलार्ड का ऐसा अवतार देखने को मिला जो शायद पहले किसी ने नहीं देखा होगा. पोलार्ड की वजह से अंपायर ने भी अपना फैसला बदल लिया.


पोलार्ड की हरकत से अंपायर को आई हंसी 

पोलार्ड मैदान पर मजाकिया अंदाज में नजर आते हैं और कुछ ना कुछ अजीब हरकतें करते ही रहते हैं. लेकिन इस बार अफगानिस्तान के विरुद्ध उन्होंने कुछ ऐसा किया जो शायद पहले कभी नहीं किया था. उन्होंने अंपायर को नो बॉल का फैसला डेड बॉल में बदलने पर मजबूर कर दिया.


मैच के दौरान वेस्टइंडीज टीम के कप्तान कीरेन पोलार्ड गेंदबाजी कर रहे थे. जैसे ही पोलार्ड गेंद फेंकने वाले थे, अंपायर तेजी से चिल्ला कर बोले नो-बॉल. पोलार्ड ने नो-बॉल की आवाज तुरंत सुन ली और उन्होंने गेंद फेंकने से पहले ही अपना हाथ रोक लिया. इसकी वजह से अंपायर को अपना फैसला नो-बॉल से डेड बॉल में बदलना पड़ा. अंपायर की इस हरकत के बाद कमेंट्री कर रहे कमेंटेटर भी अपनी हंसी नहीं रोक पाए.

वेस्टइंडीज ने किया क्लीन स्वीप 


वेस्टइंडीज की टीम में टॉस जीतकर अफगानिस्तान की टीम को बल्लेबाजी का न्योता दिया. अफगानिस्तान की टीम पहले बल्लेबाजी करते हुए 250 रन ही बना सकी. वेस्टइंडीज ने अफगानिस्तान से मिले लक्ष्य को 49वें ओवर में ही पूरा कर लिया और आसानी से मैच जीत लिया. इस मैच में वेस्टइंडीज की तरफ से शे होप ने शानदार शतक लगाया और उनको मैन ऑफ द मैच चुना गया.