भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व ऑलराउंडर खिलाड़ी युवराज सिंह संन्यास लेने के बाद अक्सर चयनकर्ता पर सवाल उठाते रहे हैं। हाल ही में युवराज सिंह ने एमएसके प्रसाद की अगुवाई वाली राष्ट्रीय चयन समिति पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि हमें निश्चित तौर पर एक बेहतर चयन समिति चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि आधुनिक क्रिकेट को लेकर वर्तमान समिति की सोच जिस स्तर की होनी चाहिए, उस स्तर की नहीं है।


युवराज सिंह ने बताया कि मैं निश्चित तौर पर यह कह रहा हूं कि हमारी चयन समिति बेहतर होनी चाहिए। चयनकर्ताओं का काम बहुत ही कठिन होता है। जब टीम में 15 खिलाड़ियों का चयन होता है तो इसके बाद सवाल किए जाते हैं कि उन 15 खिलाड़ियों का क्या होगा जो टीम में जगह बनाने में सफल रहे। चयनकर्ताओं के लिए काफी कठिन होता है। हालांकि हमारी चयन समिति की सोच वैसी नहीं है, जैसी आधुनिक क्रिकेट को लेकर होनी चाहिए।


युवराज सिंह के मुताबिक हमेशा ही मैंने खिलाड़ियों के हितों की रक्षा का समर्थन किया है। मैं खिलाड़ियों के बारे में सकारात्मक सोच रखता हूं। आप किसी भी खिलाड़ी या टीम के बारे में नकारात्मक सोच कर सही नहीं कर सकते। किसी का असली चरित्र तभी पता चलता है जब खिलाड़ी का समय साथ नहीं देता और आप उसे किस तरह प्रेरित करते हैं। जब खिलाड़ियों का समय बुरी होता है तो हर कोई बुरी बात करता है। इसी कारण मैं यह मानता हूं कि हमारी चयन समिति बेहतर होनी चाहिए।


ऐसा पहला मौका नहीं है जब युवराज सिंह ने चयनकर्ताओं को निशाना बनाया। युवराज सिंह ने इससे पहले कहा था कि यो यो टेस्ट पास करने के बाद भी चयनकर्ताओं ने मुझे टीम में जगह नहीं दी थी। युवराज सिंह को अंत में विदेशी लीग में खेलने के लिए संन्यास लेना पड़ा। युवराज सिंह जल्दी ही अबू धाबी टी10 लीग में खेलते हुए नजर आएंगे। 15 नवंबर से अबू धाबी टी10 लीग की शुरुआत होने जा रही है। आप इस मैच का लाइव प्रसारण सोनी मैक्स सोनी सिक्स और सोनी टेन 3  पर देख सकते हैं।