भारतीय टीम न्यूजीलैंड दौरे पर है. दोनों टीमों के बीच 21 फरवरी से दो टेस्ट मैचों की सीरीज खेली जाएगी. लेकिन इससे पहले ही न्यूजीलैंड की टीम को बड़ा झटका लगा है. न्यूजीलैंड के अनुभवी स्पिनर टॉड एस्ले ने रेड बॉल क्रिकेट से संन्यास ले लिया है.  उन्होंने सीमित ओवर क्रिकेट पर पूरा फोकस करने की वजह से फर्स्ट क्लास क्रिकेट को अलविदा कह दिया है. इसी के साथ वह भारत-ए के विरुद्ध आगामी फर्स्ट क्लास सीरीज में भी न्यूजीलैंड ए के लिए नहीं खेलेंगे.


एस्ले का टेस्ट करियर 8 साल का रहा. लेकिन उन्होंने इस दौरान केवल पांच टेस्ट मैच खेले. भारत ए और न्यूजीलैंड ए के बीच जल्द ही 2 फर्स्ट क्लास मैचों की सीरीज खेली जानी है, जो 30 जनवरी से शुरू होगी. एस्ले ने आखिरी टेस्ट मैच सिडनी में ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध खेला था.


उन्होंने संन्यास की घोषणा करते हुए कहा कि टेस्ट क्रिकेट खेलना उनका सपना था और उनके लिए यह सम्मान की बात है कि उन्हें कुछ मैचों में अपने देश का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिला. उन्होंने टेस्ट क्रिकेट को लेकर कहा कि रेड बॉल क्रिकेट शेखर है. लेकिन इसे अधिक समय देने की भी जरूरत होती है.


बता दें कि एस्ले ने 119 फर्स्ट क्लास मैचों में 334 विकेट हासिल किए और वह अपनी टीम की तरफ से सबसे ज्यादा फर्स्ट क्लास विकेट लेने वाले गेंदबाज रहे. एस्ले अब अपना पूरा ध्यान सीमित ओवर क्रिकेट पर लगाना चाहते हैं. इसी वजह से उन्होंने इतना बड़ा फैसला लिया है. न्यूजीलैंड के लिए एस्ले ने अब तक नौ वनडे और तीन टी20 मैच खेले हैं.